गुलाम नबी आजाद ने दिया बड़ा बयान

0
49

आप सभी भी जानते है की 23 मई को 2019 लोकसभा चुनाव के नतीजों आने वाले है लेकिन इससे पहले ही जोड़-तोड़ की राजनीति शुरू हो चुकी है. यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी विपक्ष दलों को एकजुट करने के लिए सक्रिय हो गई हैं और तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर तीसरे मोर्चे की सरकार की कवायद में जी जान से जुटे हुए हैं. हालांकि कांग्रेस की पहली कोशिश विपक्षी दलों के साथ खुद की सरकार बनाने को लेकर है. सातवें चरण की वोटिंग से ठीक पहले कांग्रेस के महासचिव गुलाम नबी आजाद ने बड़े राजनीतिक संकेत दिए हैं. वो पहले कांग्रेसी नेता हैं जिन्होंने कहा कि नतीजे के बाद अगर उनकी पार्टी को प्रधानमंत्री पद की पेशकश नहीं की गई तो कांग्रेस इसे मुद्दा नहीं बनाएगी बल्कि हम किसी अन्य नेता को प्रधानमंत्री बनने की राह में रोड़ा नहीं बनेंगे. कांग्रेस का लक्ष्य किसान और जनविरोधी बीजेपी सरकार को सत्ता से उखाड़ फेंकना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here