आपत्तिजनक पोस्ट के बाद कुरान बांटने की सजा मिलने पर ऋचा कहा कि वह फिलहाल कुरान की प्रतियां नहीं बांटेंगी।

0
77

रांची: आपत्तिजनक पोस्ट के बाद कुरान बांटने की सजा मिलने पर ऋचा पटेल ने कहा है कि वह फिलहाल कुरान की प्रतियां नहीं बांटेंगी। साथ ही ऋचा ने यह भी कहा है कि वह इस मामले में हाई कोर्ट का रूख करेंगी, क्योंकि उन्हें बेवजह की सजा दी गई है। ऋचा ने दावा किया कि उन्होंने कोई आपत्तिजनक पोस्ट नहीं लिखी है और ना ही किसी धर्म का अपमान किया है।

साथ ही कहा कि, ‘’मैंने किसी और की पोस्ट को शेयर किया था, मैंने हिंदुस्तान के मुसलमानों के बारे में कुछ नहीं लिखा। इसलिए पोस्ट को आपत्तिजनक कहना ठीक नहीं है। मैं कोर्ट के आदेश का उल्लंघन तो नहीं करूंगी, लेकिन अभी मेरा कुरान बांटने का कोई इरादा नहीं है। हम हाई कोर्ट जाएंगे।’’ उन्होंने बताया कि, ‘’मुझे लिखित तौर पर अभी कुछ नहीं मिला है। कोर्ट में मेरी पेशी भी नहीं हुई। जो कहा गया वो मेरे माता-पिता के सामने कहा गया। अगर मुझे लिखित तौर पर कोर्ट का आदेश मिल जाता है तो मैं कुरान की प्रतियां बांट दूंगी। मेरे वकील लिखित प्रतियां प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं।

क्या है पूरा मामला?

बता दें कि ऋचा पर फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने का आरोप था।मामला कोर्ट पहुंचा और ऋचा ने जमानत मांगी. न्यायिक मजिस्ट्रेट मनीष सिंह ने ऋचा को जमानत तो दी, लेकिन ऋचा को आदेश दिया कि उसे मुसलमानों के पवित्र ग्रंथ कुरान की 5 प्रतियां बांटनी होगी।
कुरान की एक कॉपी अंजुमन इस्‍लामिया कमिटी को देनी होगी और 4 कापियां स्कूल और कॉलेजों को देनी होगीं ऋचा को अगले 15 दिन के अंदर पांचों की रसीद कोर्ट में जमा भी करनी होंगी. 12 जुलाई को कथित रूप से सांप्रदायिक पोस्ट करने पर ऋचा के खिलाफ पिथोरिया पुलिस स्टेशन में केस दर्ज किया गया था. पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल में डाल दिया. हिंदू संगठनों समेत कई लोगों ने पुलिस के इस कदम का कड़ा विरोध किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here